मंगलवार, दिसम्बर 10, 2019
होम Fitness वेट लॉस डाइट इन हिंदी

वेट लॉस डाइट इन हिंदी

वेट बढ़ने का विज्ञान बड़ा सीधा-साधा है। यदि आप खाने-पीने के रूप में  जितनी कैलोरीज ले रहे हैं उतनी बर्न  नहीं करेंगे तो आपका वेट बढ़ना तय है।

दरअसल बची हुई कैलोरी ही हमारे शरीर में फैट के रूप में इकठ्ठा हो जाती है और हमारा वज़न बढ़ जाता है। कैलोरी सबसे महत्वपूर्ण कारक है जो वजन बढ़ाने और वजन घटाने दोनों को निर्धारित करता है।

हम अपने इस लेख “वेट लॉस डाइट इन हिंदी” में आपको यह बताएँगे की आप कैसे अपने रोज के भोजन में कैलोरीज को कण्ट्रोल करे फैट को बढ़ने से रोके।

वजन घटाने के लिए जरूरी है कि कम खाने की जगह यह जान लिया जाए की क्या खाना चाहिए और क्या नहीं खाना चाहिए। अक्सर हमें लगता है कि खाना कम खाने और जिम जाने से वजन घटने लगे गा जो कि गलत है।

कैलोरी के तीन मुख्य स्रोत वसा, कार्बोहाइड्रेट और प्रोटीन हैं अस्वास्थ्यकर संतृप्त (सैचुरेटेड) वसा के स्रोत मक्खन, पनीर और मांस के टुकड़े हैं; जबकि स्वस्थ असंतृप्त (उन-सैचुरेटेड) वसा के स्रोत हैं पालक, वनस्पति तेल, जैतून और समुद्री भोजन।

सफेद चावल, चीनी, सफेद आटा, सोडा, फलों के रस और बेक किए गए सामान जैसे साधारण कार्बोहाईड्रेट आपको मोटा बनाते हैं। ब्राउन चावल, गेहूं का आटा, सेम, मसूर, फलियां, फलों और सब्जियों जैसे कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट वेट घटने में मदद करते है।

वजन घटाने के लिए आपकी आहार योजना में पोषक तत्वों को शामिल करना चाहिए। तो आइये हम अपने इस लेख “वेट लॉस डाइट इन हिंदी” की मदद से आपको कुछ टिप्स दे जिससे आप अपना वजन संतुलित कर सके।

तो आइये और जानिए वेट लॉस डाइट हिंदी में

1. खुराक जादा और छोटी रखे

दिन में तीन बार भर पेट खाने से अछा पांच बार छोटी छोटी खुराक ले।जो की ३०% तक  कैलोरी कम करने में मदद करता है। जिससे हम जादा एक्टिव रह सकते है और जादा एक्टिव रहने की वजह से फैट लॉस भी कर सकते है।

2. सुबह नास्ते से पहले

सुबह नास्ते से पहले रोज हल्के गुनगुने पानी के साथ नीबू और शहद का सेवन करें। ऐसा करने से आपका वज़न कम होगा। या फिर आप ग्रीन टी भी पी सकते है जो आपके वजन को संतुलित करने में आपकी मदद करेगा। आप एग वाइट भी पी सकते है जो फैट को बढ़ने नहीं देगा और बहुत सारी एनर्जी देगा।

3. सुबह का नाश्ता

वजन घटाने के लिए अक्सर लोग नाशता नहीं करते हैं जो कि गलत है। दिन भर के क्रिया कलापों के लिए आपको शरीर को ऊर्जा की जरूरत होती है जो कि बिना नाशते के संभव नहीं है।

नास्ते में कभी आप  दूध के साथ दलिया ले सकते हैं तो कभी वेज सैंडविच तो कभी पोहा या उपमा ले सकते हैं तो कभी इडली या अपना पसन्दीदा आहार खा सकते है।

नाश्ते के वक़्त ऑरेंज जूस, चाय, दूध इत्यादि ज़रूर लें लेकिन उसके बाद पुरे दिन पानी को ही पीने के लिए इस्तेमाल करें. कोल्ड-ड्रिंक को तो छुए भी नहीं और चाय-कॉफ़ी भी कम से कम पिए। इस तरह आप हर रोज़ बहुत सारी कैलोरीज कम कर सकेंगे। सुबह के नास्ते में आप ओटस भी खा सकते है।

4. लंच

दोपहर के भोजन में हरी सब्जी, रोटी, ताजा दही या छाछ, छिलके वाली दाल के साथ चावल ले सकते हैं। खाने के साथ हरी चटनी भोजन में मल्टीविटामिन्स की कमी को पूरा करती है।

सलाद का प्रयोग भी लाभदायक है। हर मौसम के फल व सब्जियां अलग होती हैं। इसलिए अपनी आहार योजना में मौसमी फल और सब्जियों का प्रयोग करें।

पर ध्यान रहे चावल और आलू जितना कम खाये उतना ही वेट लॉस आप कर सकते है। वाटर-रिच फ़ूड, जैसे कि टमाटर,लौकी, खीरा, आदि खाने से आपका ओवरआल कैलोरी कोन्सुम्प्शन कम होता है। इसलिए इनका अधिक से अधिक प्रयोग करें।

5. साम का  नास्ता

साम को आप ग्रीन टी पी सकते है।  हेल्दी स्नैक्स लें जैसे चिवड़ा ,पोहा , ढोकला, उबले हुआ मक्का, स्प्राउट्स, फल या सलाद खा सकते हैं। चाय ,कॉफ़ी बनाने में, या सिर्फ दूध पीने के लिए भी लौ फैट वाली मिल्क का उपयोग करे।

6. रात का  खाना

रात का खाना बहुत ही लाइट होना चाहिए। डिनर रात को सोने से दो या ढाई घंटे पहले कर लेना चाहिए। इससे खाने को पचने का पर्याप्त समय मिलता है। रात में दाल, चावल के सेवन से बचें क्योंकि ये आसानी से पचती नहीं हैं। रत के खाने के लिए दो रोटी काफी है जितना हो सके खली पेट सोने की कोसिस करे जिससे आपका वेट आसानी से घट जायेगा।

7. पानी पे रखे ध्यान

दिन भर में 3- 4 लीटर पानी व तरल पदार्थ लें। यह भूख कम करता है और कब्ज रोकता है। पीनी के अलावा नारियल पानी, फलों का जूस, सूप, नींबू पानी या छाछ का प्रयोग भी कर सकते हैं। खाना खाने के तुरंत बाद पानी न पिए। कम से कम १ घंटे बाद ही पानी पिए हो सके तो खाने के १० मिनट पहले १ गिलास पानी पी ले।

8. छोटी प्लेट का प्रयोग करें

यदि आपके सामने कम खाना होगा तो आप कम खायेंगे, और यदि ज्यादा खाना रखा है तो आप ज्यादा खायेंगे. तो अच्छा होगा कि आप थोड़ी छोटी थाली उपयोग करें।  जिसमे कम खाना आये. इसी तरह चाय – कॉफ़ी के लिए भी छोटे कप्स प्रयोग करें।

9. भूख लगने पर खाये

तभी खायें जब सचमुच भूख लगी हो। कई बार हम बस यूँहीं खाने लगते हैं। अगली बार तभी खाएं जब आपको वाकई में भूख सहन ना हो।  यदि आप कोई स्पेसिफिक चीज खाने के लिए खोज रहे हैं तो ये भूख नही बस स्वाद बदलने की बात है। हो सके तो खाने में फिश आयल का उपयोग करे।

10. धीरे धीरे खाये

जितना जल्दी आप खाओगे उतना ही जादा खाओगे इसलिए कहते वक्त चबा चबा कर आराम  से खाना चाहिए जिससे भोजन तो पचता ही है साथ ही साथ आप जादा खाने की अपनी आदत से भी बच  जाते हो।

याद रखिये कि वेट कम करने के लिए आपको सब्र रखना होगा। छोटी-छोटी बातों पर ध्यान देकर आप इस काम को तेजी से कर पायेंगे। बैलेंस्ड डाइट खाने से हम आसानी से अपने फैट को कम कर सकते है। हमें आसा है की हमारे इस लेख “वेट लॉस डाइट इन हिंदी” से आपको अपना बैलेंस डाइट बनाने में काफी मदद मिलेगी।

संपादक
मैं इस साइट का संपादक और वेबमास्टर हूं, जो आपको स्वास्थ्य और कल्याण पर सबसे अच्छी सामग्री ला रहा है। यदि आप हमारी साइट पर पोस्ट करना चाहते हैं तो हमें लेख भेजें Write for Us

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सफ़ेद बालो का इलाज़

हमारे सिर के बाल बिना समय के  ही सफ़ेद हो जाते हैं. यह हमारे लिए एक बड़ी समस्या बन चुकी है. सफ़ेद होने के...

जाने वासना, प्रेम व मोह के बीच फर्क

नए रिश्तो में आगे बढने से पहले हमें रिश्तो से संबंधित कुछ जरुरी बाते जैसे वासना प्रेम तथा मोह के बीच के अंतर को...

पीलिया क्या है इसके कारण क्या है, लक्षण, उपाय

आपको बता दे पीलिया रोग हर किसी उम्र में हो सकता है इस रोग में लोगो के शरीर का रक्त लाल से पीला पड़ जाता है...

कमर दर्द से निजात पाने के लिए घरेलू उपचार

आज के जीवन में कमर दर्द की समस्या एक आम और तकलीफदेह समस्या बन चुकी है।आमतौर पर उम्र बढ़ने के साथ शुरू होने वाली...

सिगरेट छोड़ने की दवा- Cigarette Chodne Ki Dawa

एक सिगरेट आपके जीबन के 4 min छीन लेता है। ये इतना खतरनाक है की सिगरट पिने से cancer होने का खतरा 30 %...

मौसमी बुखार या वायरल फीवर (Viral Fever) के लिए घरेलू उपाय

बदलते मौसम के साथ हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी उतार-चढ़ाव होता रहता है, जिसके कारण बुखार, खाँसी, सर्दी जैसे रोग हमारे...

अस्थमा के लक्षण (Ashtma Ke Lakshan) In Hindi

अस्थमा के लक्षण (Ashtma ke Lakshan)- हमारे घर के अंदर और घर के बाहर कुछ ऐसी चीजें होती हैं जिसके कारण हमें अस्थमा की शिकायत...

शरीर की कमजोरी के लक्षण, दूर करने के अचूक उपाय

आपको शरीर की कमजोरी तभी आती है जब हम सही समय पर खाना न खा पाते हैं तो इसका, कमजोरी आना आम बात हो जाती है...

साँसों की दुर्गन्ध दूर करने के घरेलू उपाय

साँसों की दुर्गन्ध एक ऐसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या है जो कई लोगों में पाई जाती है।साँसों की दुर्गन्ध या बदबू का कारण मुँह में...

चर्म रोग का इलाज

आपको अगर चर्म रोग है, तो इस बीमारी के कारण कई तरह की परेशानी झेलनी पड़ती है। बारिश  या फिर गर्मी के मौसम में...