होम Parenting गर्भावस्था और डिप्रेशन का क्या संबंध है ?

गर्भावस्था और डिप्रेशन का क्या संबंध है ?

गर्भावस्था और डिप्रेशन (Antenatal depression) का क्या संबंध है ? इस सवाल के बारे में आपने कभी सोचा है ? गर्भावस्था के दौरान विभिन्न शारीरिक और भावनात्मक बदलावों से गुजरने वाली महिलाओं और इस दौरान शारीरिक परिवर्तन के प्रति उनके नकारात्मक रुख के कारण बच्चे को जन्म देने के बाद उनके अंदर डिप्रेशन आ सकता है।

विज्ञापन

साइकोलॉजिकल एसेसमेंट जर्नल में प्रकाशित शोध-आलेख के अनुसार, शोधकर्ताओं ने पाया कि गर्भवती महिलाओं में उनके बदलते शरीर के बारे में आने वाले विचारों से यह अंदाजा लगाने में सहायता मिल सकती है कि मां का उनके अजन्मे बच्चे से कितना लगाव है और बच्चे को जन्म के बाद उनकी भावनात्मक स्थिति कैसी रहेगी।

गर्भावस्था और डिप्रेशन पर एक्सपर्ट्स की राय 

इंग्लैंड के यूनिवर्सिटी ऑफ योर्क के शारीरिक छवि विभाग की एक मनोवैज्ञानिक कैथरीन प्रेस्टन ने कहा, “गर्भावस्था और बच्चे को जन्म देने के बाद भी महिलाएं अपने शरीर को लेकर लगातार दवाब में रहती हैं।”

उन्होंने कहा, “इसलिए यह जरूरी है कि गर्भावस्था के दौरान देखभाल सिर्फ मां और उसके अजन्मे बच्चे के शारीरिक स्वास्थ्य के की ही नहीं है, बल्कि महिला के भावनात्मक स्वास्थ्य की भी होनी चाहिए जो महिला के मां बनने के बाद के व्यवहार के बारे में बहुत जानकारी दे सकता है।”

शोध में क्या संबंध मिला 

शोधकर्ताओं ने अध्ययन में लगभग 600 गर्भवती महिलाओं को शामिल किया, जिनसे गर्भावस्था के दौरान उनके शारीरिक आकार, वजन बढ़ने संबंधी चिंताओं और गर्भावस्था के दौरान होने वाली शारीरिक परेशानियों के बारे में पूछा गया।

शोध में पाया गया कि गर्भावस्था के दौरान अपने शारीरिक बदलाव के प्रति ज्यादा सकारात्मक बातें सोचने वाली महिलाओं के उनके साथी से बेहतर संबंध होने की संभावना ज्यादा रहती है।

गर्भावस्था और डिप्रेशन के संबंध को समझने के बाद सावधानियों पर भी गौर करना चाहिए. गर्भावस्था के समय बनने वाली मां का विशेष ख्याल रखना होता है. अगर मां की भावनात्मक स्थिति ठीक रहती है तो बच्चा भी स्वस्थ्य होता है.

विज्ञापन

नोट - यहां पर दी गई जानकारी केवल एक सलाह के तौर पर है। हम इनमें से किसी भी उपचार को आजमाने के लिए आप पर किसी प्रकार का कोई भी दबाब नहीं बना रहे हैं। अतः आपसे निवेदन है कि किसी भी उपचार को अपनाने से पहले किसी डॉक्टर अथवा विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य लें।

संपादक
मैं इस साइट का संपादक और वेबमास्टर हूं, जो आपको स्वास्थ्य और कल्याण पर सबसे अच्छी सामग्री ला रहा है। यदि आप हमारी साइट पर पोस्ट करना चाहते हैं तो हमें लेख भेजें Write for Us

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

लू से बचने के लिये कुछ घरेलू नुस्ख़े – Home Remedies for Prevent Lu

गर्मियों का समय आते ही लू का डर हर किसी को सताने लगता है| परन्तु कुछ घरेलू उपायों Home Remedies for Prevent Lu को...

मानव शरीर से जुड़े इन आश्चर्यजनक तथ्यों के बारे में नहीं जानते होंगे आप

हमारे शरीर से जुडी कई ऐसी जानकारियां ऐसी हैं जिन्हें अभी तक विज्ञान भी नहीं समझ पाया है या यू कहें कि इनके सामने...

Chehare ke kaale daag dhabbe hatane ke gharelu upay

क्या आपके चेहरे पर दाग धब्बे, मुँहासे के निशान और त्वचा की चमक भी मुहासे होने के कारण आपको अच्छा नहीं लग रहा है...

अस्थमा का उपचार

अस्थमा एक श्वास संबंधी बीमारी है | अस्थमा के रोगियों को   मौसम परिवर्तन की  कई समस्याओ का सामना करना पड़ता है| इतना ही नही अस्थमा...

दुख भरे शायरी- Dukh Bhari Shayeri

दुख भरे शायरी/ Girlfriend Se Dhoka ShayariGirlfriend Se Dhoka Shayari/ Bicharne Waley Shayeri/ Dil Tutne Ki Shayeri/ Pyaar Mein Dhoka/ Pyaar Ke Intezar Mein...

एनीमिया क्या है, कारण, रोकथाम और निदान

शरीर में  होने वाली खून की कमी को एनीमिया  कहते है जिसकी वजह से हमारे शरीर में अनेको तरहा की बिमारीआ होती है अनामिआ...