होम Dental साँसों की दुर्गन्ध दूर करने के घरेलू उपाय

साँसों की दुर्गन्ध दूर करने के घरेलू उपाय

साँसों की दुर्गन्ध एक ऐसी स्वास्थ्य संबंधी समस्या है जो कई लोगों में पाई जाती है।साँसों की दुर्गन्ध या बदबू का कारण मुँह में मौजूद बैक्टीरिया (Bacteria) होती है।

इस बैक्टीरिया से निकलने वाले सल्फर कम्पाउंड (Sulphur Compound) की वजह से मुँह में बदबू पैदा होती है। साँसों की दुर्गन्ध के कई कारण हो सकते हैं, जैसे :

  • धूम्रपान, मद्यपान या तंबाकू का सेवन
  • मसूड़े के रोग
  • अच्छी तरह से मुँह साफ न करना अर्थात ब्रश न करना
  • शुष्क मुँह
  • गले का संक्रमण अर्थात टोंसिल या साइनस की समस्या
  • दांतों का संक्रमण जैसे पाईरिया
  • अम्लता या एसिडिटी (Acidity)

साँसों की दुर्गन्ध या मुँह की बदबू दूर करने के घरेलू नुस्खें

  1. नियमित रूप से ब्रश करें : रोजाना नियमित रूप से दिन में दो बार ब्रश करना अत्यावश्यक है। ऐसा करने से आपकेदांत और मुँह साफ रहते हैं। खाना खाने के बाद मुँह में खाद्य के कुछ न कुछ कण रह ही जाते हैं, जिन्हें अच्छी तरह से साफ न करने से उसमें जीवाणु पनपते हैं और साँसों की बदबू का कारण बनते हैं।अतः रोजाना सुबह नींद से उठकर और रात को सोने जाने से पहले ब्रश करना जरुरी है।
  2. जीभ को साफ रखें : भोजन करने के बाद यदि मुँह ठीक से साफ न किया जाये तो मुँह में, खासकर जीभ के ऊपर जीवाणु जमा हो जाते हैं और मुँह में बदबू पैदा करते है।इसलिए दाँतों को साफ करने के साथ जीभ को साफ करना भी जरुरी है ताकि किसी भी तरह से जीवाणु मुँह के अन्दर न रह जाये।
  3. पुदीना या धनिया : पुदीना या धनिया के ताजे पत्ते चबाने से साँसों की दुर्गन्ध दूर होती है और मुँह में ताजगी भी बनी रहती है। आप सलाद के साथ या ऐसे भी पुदीना या धनिया के ताजे पत्तों का सेवन कर सकते है। लहसुन और प्याज के कारण उत्पन्न साँसों की दुर्गन्ध को भी दूर करने में पुदीना या धनिया के पत्ते सहायक है।
  4. सूरजमुखी के बीज : सूरजमुखी के बीजों में फाइबर (Fiber), प्रोटीन (Protein) और विटामिन-ई (Vitamin E) भरपूर मात्रा में पाए जाते हैं।सूरजमुखी के बीजों को चबाने से मुँह की दुर्गन्ध दूर होती है और दाँतों में सड़न नहीं होती।इन बीजों को चबाकर एक गिलास पानी पी लें। इस प्रक्रिया को निरंतर करने से साँसों की दुर्गन्ध दूर हो जायेगी।
  5. हल्दी : हमारे खाने को सही रंग देने वाली हल्दी भी हमारी साँसों की दुर्गन्ध दूर करने में सहायक होती है। पीसी हुई हल्दी, थोड़ा-सा नमक और सरसों का तेल मिलाकर एक लेप तैयार करके सुबह ब्रश या उंगली की सहायता से अपने दाँतों और मसूड़ों में लगाकर उसे कुछ देर तक छोड़ दे, फिर थोड़ी देर बाद कुल्ला करके अच्छे से मुँह साफ कर ले।इस मिश्रण के प्रयोग से पाईरिया जैसी समस्या उत्पन्न नहीं होती और साँसों की बदबू भी खत्म हो जाती है।
  6. खाने का सोडा (Baking Soda) : घर में इस्तेमाल होने वाला खाने का सोडा (Baking Soda) मुँह की बदबू दूर करने का एक बेहतरीन उपाय है।हफ्ते में एक बार सुबह थोड़ा-सा खाने का सोडा लेकर उँगली के सहारे उसे दाँतों पर रगड़ने के बाद गुनगुने पानी से मुँह धो ले, इससे आपके मुँह में जीवाणु उत्पन्न नहीं होंगे।वैकल्पिक तौर पर हफ्ते में एक बार सुबह ब्रश करते समय अपने मंजन (Toothpaste) में थोड़ा-सा खाने का सोडा डालकर ब्रश कर सकते है। इससे भी साँसों की दुर्गन्ध दूर हो जायेगी। इसके अतिरिक्त एक कप पानी में खाने का सोडा और हाइड्रोजन परऑक्‍‌साइड‌ (Hydrogen Peroxide) मिलाकर माउथवॉश (Mouthwash) की तरह भी उसका इस्तेमाल कर सकते है।
  7. नींबू : नींबू मुँह की लार (Saliva) में वृद्धि करता है और इसलिए शुष्क मुँह के कारण होने वाली साँसों की दुर्गन्ध को दूर करने में नींबू मदद करता है।एक कप पानी में एक चम्मच नींबू का रस और एक चुटकी नमक मिलाकर खाने के बाद उससे कुल्ला करें।यह उपाय रोज करने से साँसों की दुर्गन्ध दूर हो जाती है।इसके अतिरिक्त आप नींबू के पानी में रातभर नीम के दाँतून को भीगोकर रखे और सुबह उसी दाँतून का इस्तेमाल करे। इससे दांत तथा मसूड़े स्वस्थ और मजबूत होंगे और मुँह की बदबू भी दूर हो जायेगी।यदि प्रतिदिन दाँतून करना संभव नहीं तो सप्ताह में एक बार दाँतून जरुर करे। इसके अलावा नींबू के छिलकों को धूप में सुखाकर पीस ले और उसमें बराबर मात्रा में फिटकिरी मिलाकर उस मिश्रण से मंजन करें। इससे दाँतों और मसूड़ों की समस्या तो दूर होती ही है साथ ही साँसों की दुर्गन्ध भी दूर हो जाती है।
  8. टी ट्री ऑयल (Tea tree oil) :यह एक शक्तिशाली कीटाणु नाशक है तेल है, जो मुँह में पैदा होने वाले जीवाणुओं को खत्म करके साँसों की दुर्गन्ध को दूर करने में मदद करता है। आप अपने मंजन में टी ट्री ऑयल की कुछ बूंदें डालकर उससे दांत साफ कर सकते है। वैकल्पिक तौर पर टी ट्री ऑयल, नींबू का रस और पेपरमिंट ऑयल (Peppermint oil) को बराबर मात्रा में मिलाकर उस मिश्रण का माउथवाश (Mouthwash) की तरह भी प्रयोग कर सकते हैं। इसके निरंतर प्रयोग से आपके मुँह में ताजगी बनी रहेगी और बदबू भी दूर हो जायेगी।
  9. सौंफ : सौंफ साँसों की दुर्गन्ध से छुटकारा दिलाने में मदद करता है। खाने के बाद थोड़ा-सा सौंफ लेकर चबाकर खाने से मुँह की बदबू दूर हो जाती है और मुँह में ताजगी बरकरार रहती है।सौंफ में जीवाणुओं से लड़ने की क्षमता भी होती है।
  • पार्सले (Parsley) पार्सले मुँह की बदबू को दूर करने में मदद करता है।ताजे पार्सले की पत्तियों को सिरके में कुछ देर के लिए भीगोकर रखें उसके बाद उन्हीं पत्तियों को चबाकर खाने से मुँह में ताजगी फैल जायेगी और दुर्गन्ध भी दूर हो जायेगी।इसके अलावा आप पार्सले की पत्तियों का रस बनाकर भी पी सकते है।पार्सले पेट के पाचन तंत्र को सही रखता है और गैस एवं अम्लता जैसी समस्याओं को भी दूर करके उससे उत्पन्न होने वाली साँसों की बदबू को भी दूर करता है।
  1. दालचीनी : दालचीनी में खासकिस्मकातेल पाया जाता है जो न केवल मुँह की बदबू को खत्म करता है बल्कि मुँह में उत्पन्न होने वाले खराब बैक्टीरिया (Bacteria) को भी नष्ट करता है।एक मध्यम आकर का बर्तन लेकर उसमें एक कप पानी डालकर उबालें, फिर उसमें एक-एक करके दो से तीन हरी इलायची और एक तेजपत्ता डालकर अच्छे से उबाल लें।फिर उस मिश्रण को छानकर पानी को गुनगुना होने तक छोड़े और उससे कुल्ला करें। इससे आपकी साँसों की बदबू दूर हो जायेगी और आपको मुँह में ताजगी का अनभव होगा।
  • सेब का सिरका : सांसों की दुर्गन्ध से निजात पाने के लिए सेब के सिरके का प्रयोग किया जा सकता है।एक चम्मच जैतून के तेल में सेब का सिरका मिलाकर एक मिश्रण तैयार करके उसमें ब्रश डूबोकर दाँतों पर हलके हाथों से घुमाएँ।इस नुस्खे को अपनाने से दाँत भी साफ होंगे और साँसों की दुर्गन्ध भी दूर होगी।इसके अतिरिक्त आप एक गिलास पानी में एक चम्मच सेब का सिरका मिलाकर खाने से एक घंटे पहले उसका सेवन भी कर सकते हैं। इससे पाचन तंत्र भी सही रहता है और मुँह की बदबू भी दूर होती है।लेकिन इस बात का जरुर ध्यान रखे कि सिरके से आपको कोई ऐलर्जि (Allergy) न हो।
  • लौंग : लौंग में जीवाणु प्रतिरोधक गुण हैं जो सांसों की दुर्गन्ध दूर करने में सहायक है। आप खाने के बाद दो से तीन लौंग मुँह में रखकर धीरे-धीरे चबा सकते हैं।लौंग से निकलने वाला तेल आपकी लार के साथ मिलकर बदबू को पैदा करने वाले जीवाणुओं को खत्म करता है। कुछ ही मिनटों में आपको ताजगी का अनुभव होगा और मुँह की बदबू भी चली जायेगी। इसके अलावा आप लौंग की चाय का सेवन भी कर सकते है या उससे कुल्ला भी कर सकते हैं।एक कप पानी को उबालकर उसमें एक चम्मच पीसी हुई लौंग डालकर उसे पाँच से दस मिनट तक धीमी आँच पर पकाएं, फिर उसे छानकर चाय की तरह पी सकते हैं या उस पानी को थोड़ा ठंडा करके उससे कुल्ला भी कर सकते हैं।ऐसा नियमित रूप से करने से साँसों की बदबू कुछ ही दिनों में दूर हो जायेगी।
  • तुलसी :तुलसी की ताजी पत्तियों को चबाकर खाने से मुँह की बदबू दूर होती है और मुँह का घाव भी ठीक हो जाता है।पाईरिया जैसी समस्या को दूर करने में भी तुलसी मदद करता है।

उपर्युक्त प्राकृतिक और घरेलू नुस्खों के प्रयोग द्वारा आप साँसों की दुर्गन्ध से निजात पा सकते हैं।

यदि इनके प्रयोग के बावजूद भी साँसों की दुर्गन्ध दूर नहीं होती है तो किसी अच्छे दन्त चिकित्सक से अपना इलाज करवायें।

किसी  संक्रमण के कारण भी आपके मुँह में बदबू पैदा हो सकती है। ऐसे में डॉक्टर की सलाह लेना जरुरी है।मुँह में बदबू पैदा न हो इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना जरुरी हैं, जैसे :

  • खूब सारा पानी पिये. पानी आपके दाँतों में फंसे खाद्य कणों को निकालकर मुँह को साफ रखता है।
  • सही भोजन का सेवन करें। अपने रोजाना के खाद्य में हरी पत्तेदार सब्जियों और फलों को शामिल करें।विटामिन ए (Vitamin A) से भरी ब्रोकोली, गाजर, कद्दू, ककड़ी जैसी सब्जियाँ प्राकृतिक रूप से दाँतों की सफाई करने के साथ दाँतों की जड़ो को भी मजबूत बनाती हैं।नाशपाती, सेब, अमरुद, केला जैसे फल मसूड़ों के लिए काफी अच्छे हैं।विटामिन सी (Vitamin C) से भरे स्ट्रॉबेरी, कीवी जैसे फल भी मसूड़ों को मजबूत बनाते हैं।
  • धूम्रपान, मद्यपान, तंबाकू के सेवन से परहेज करें।
  • अपने पाचन तंत्र को स्वस्थ रखें।अत्यधिक मात्रा में बाहर का खाना एवं मसालेदार खाना पाचन तंत्र को बिगाड़ सकता है और उससे अम्लता, गैस जैसी समस्या हो सकती है, जिससे मुँह में बदबू पैदा हो सकतीहै।
  • दाँतों को ब्रश करने की तरह फ्लॉस (Floss)भी करें। एक धागे की मदद से दाँतों के बीच फंसे खाद्य कणों को बाहर निकालना जरुरी होता है ताकि वोखाद्य कण मुँह में सड़कर बदबू पैदा न कर सके।
  • अतिरिक्त मात्रा में चाय, कॉफी, सॉफ्ट ड्रिंक्स, मिठाई, चॉकलेट आदि का सेवन ना करें। इसके अत्यधिक सेवन से दांतों और मसूड़ों की समस्या हो सकती है।

नोट - यहां पर दी गई जानकारी केवल एक सलाह के तौर पर है। हम इनमें से किसी भी उपचार को आजमाने के लिए आप पर किसी प्रकार का कोई भी दबाब नहीं बना रहे हैं। अतः आपसे निवेदन है कि किसी भी उपचार को अपनाने से पहले किसी डॉक्टर अथवा विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य लें।

संपादक
मैं इस साइट का संपादक और वेबमास्टर हूं, जो आपको स्वास्थ्य और कल्याण पर सबसे अच्छी सामग्री ला रहा है। यदि आप हमारी साइट पर पोस्ट करना चाहते हैं तो हमें लेख भेजें Write for Us

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

गले की खराश से बचने के लिए अपनायें ये आसान घरेलू उपाय

बदलते मौसम के कारण हमें कई तरह की स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याएं परेशान करती हैं। गले में खराश होना भी उनमें से एक है। खराश होने...

मौसमी बुखार या वायरल फीवर (Viral Fever) के लिए घरेलू उपाय

बदलते मौसम के साथ हमारे शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता में भी उतार-चढ़ाव होता रहता है, जिसके कारण बुखार, खाँसी, सर्दी जैसे रोग हमारे...

सिगरेट छोड़ने की दवा- Cigarette Chodne Ki Dawa

एक सिगरेट आपके जीबन के 4 min छीन लेता है। ये इतना खतरनाक है की सिगरट पिने से cancer होने का खतरा 30 %...

बालों को काला और घना करने के 10 घरेलू उपाय

बालों को काला और घना करने के उपाय– दुनिया में ऐसे बहुत सारे लोग है जो अपने बल्लो की समस्या से जुडी बीमारियों से...

ब्रेकअप के बाद क्या करे

आज के इस आधुनिक युग में जहां रोज हज़ारो रिस्ते बनते है और टूट ते है। वंहा ब्रेकअप एक आम बात हो गई है...