होम Health जानिये क्या हैं बबासीर यानी कि पाइल्स होने के कारण

जानिये क्या हैं बबासीर यानी कि पाइल्स होने के कारण

आजकल की बदलती लाइफस्टाइल और काम के दबाव के कारण कई लोगों को बबासीर यानि कि पाइल्स की समस्या हो जाती है। देखने और सुनने में ये भले ही आसान लगे लेकिन पाइल्स होने पर कई दिक्कतों को सामना करना पड़ता है और सबसे ज्यादा मुश्किल तो बैठने का काम लगता है।

बवासीर या पाइल्स एक खतरनाक बीमारी है। बवासीर 2 प्रकार की होती है। आम भाषा में इसको खूनी और बादी बवासीर के नाम से जाना जाता है।

पाइल्स आमतौर पर पेट की खराबी, कब्ज या ज्यादा देर एक ही जगह बैठे रहने की वजह से होती है। वैसे तो ये पुरुषों और महिलाओं दोनों में होती है लेकिन ज्यादातर ये महिलाओं की अपेक्षा पुरुषों में होती है।

जानें क्या है बबासीर या पाइल्स-

बवासीर या पाइल्स एक खतरनाक बीमारी है। बवासीर 2 प्रकार की होती है। आम भाषा में इसको खूनी और बादी बवासीर के नाम से जाना जाता है। बवासीर या पाइल्स ये एक ऐसी बीमारी है जिसमें गुदा के अंदर और बाहरी हिस्से में सूजन आ जाती है।

जिसकी वजह से गुदा के अंदरूनी हिस्से में या बाहर के हिस्से में कुछ मस्से जैसे बन जाते हैं, जिनमें से कई बार खून निकलता है और दर्द भी होता है।

जानें बबासीर के कारणों के बारे में-

लम्बे समय से कब्ज होना-

अगर आपको लम्बे समय से कब्ज, गैस और एसिडिटी की समस्या है तो ये बबासीर या पाइल्स का कारण बन सकती है। क्योंकि कब्ज होने पर माल त्याग करते समय ज्यादा जोर लगाना पड़ता है। जिसके कारण गुदा के अंदर और आसपास की नसों पर काफी दबाब पड़ता है जो बबासीर का कारण बनता है।

लगातार एक ही जगह बैठे रहना-

ज्यादातर लोग काम की वजह से लगातार एक ही जगह बैठे रहते हैं जिसके कारण भी गुदा के अंदर और आसपास की नसों पर दबाब पड़ता है और बबासीर की समस्या होने लगती है। इसके अलावा कम चलना और कोई फिजिकल एक्टिविटी ना करना भी बबासीर के कारणों में से एक है।

गर्भावस्था के कारण-

गर्भावस्था के दौरान बबासीर या पाइल्स होना एक आम बात है। गर्भावस्था के दौरान पेट में पल रहे बच्चे से होने वाले दबाब और शरीर में होने वाले हॉर्मोन्स में बदलाव के कारण रक्त कोशिकाओं पर दबाब पड़ता है। जो बबासीर का कारण बनता है।

गलत खानपान के कारण-

कई बार ज्यादा मसालेदार और तैलीय खाना खाने, ज्यादा फास्ट-फूड्स और ड्रिंक्स के प्रयोग, पानी कम पीने और अपनी डाइट में फाइबर्स कम मात्रा में प्रयोग करने से भी पाइल्स या बबासीर की समस्या उत्पन्न हो जाती है। इसके अलावा कई बार ज्यादा ठंडा पानी पीने से भी बबासीर की समस्या हो जाती है।

बढ़ती उम्र के कारण-

उम्र बढ़ने के साथ-साथ गुदा का अंदरूनी भाग कमजोर पड़ता जाता है जिसके कारण बबासीर की समस्या हो सकती है। ज्यादातर ये समस्या 30 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों में होती है।

ज्यादा भारी वजन उठाने के कारण-

ज्यादा भारी वजन उठाते समय या इससे एक्सरसाइज करते समय हमें अपनी सांसों को रोकना पड़ता है जिससे गुदा पर दबाब पड़ता है और इसकी नसें कमजोर हो जाती हैं। यही बबासीर का कारण बनता है।

अनुवांशिकता या जीन्स के कारण-

कई व्यक्तियों में बबासीर की समस्या अनुवांशिकता की वजह से भी होती है। जैसे अगर आपके घर में मम्मी या पापा को अगर बबासीर की प्रॉब्लम है तो ये आपको भी हो सकती है।

अधिक मोटापे के कारण-

जिन लोगों का वजन सामान्य से ज्यादा होता है या पेट काफी निकला होता है उन लोगों को भी पेट में बढ़ते दबाव के कारण बबासीर की समस्या हो जाती है।

धूम्रपान और अल्कोहल के अधिक सेवन के कारण-

कई लोगों को धूम्रपान और अल्कोहल का अधिक मात्रा में सेवन करने के कारण भी बबासीर की समस्या हो जाती है।

गुदा मैथुन करने के कारण-

अप्राकृतिक तरह से सेक्स यानी कि गुदा मैथुन करने से पड़ने वाले दबाब के कारण भी बबासीर या पाइल्स की शिकायत हो जाती है।

नोट - यहां पर दी गई जानकारी केवल एक सलाह के तौर पर है। हम इनमें से किसी भी उपचार को आजमाने के लिए आप पर किसी प्रकार का कोई भी दबाब नहीं बना रहे हैं। अतः आपसे निवेदन है कि किसी भी उपचार को अपनाने से पहले किसी डॉक्टर अथवा विशेषज्ञ से परामर्श अवश्य लें।

संपादक
मैं इस साइट का संपादक और वेबमास्टर हूं, जो आपको स्वास्थ्य और कल्याण पर सबसे अच्छी सामग्री ला रहा है। यदि आप हमारी साइट पर पोस्ट करना चाहते हैं तो हमें लेख भेजें Write for Us

कोई जवाब दें

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

सम्भोग के समय योनि में दर्द क्यों होता है

नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका एक बार फिर से हेल्थ टिप्स हिंदी वेबसाइट के नए अंक में इस वेबसाइट के द्धारा आप अपनी किसी...

क्या है ”वर्ल्ड फर्स्ट एड डे”, कब हुई शुरुआत और थीम, जानें यहां

आज (14 सितंबर) है ”वर्ल्ड फर्स्ट एड डे” (world first aid day 2019)। हर साल 14 सितंबर को यह दिन इसलिए मनाया जाता है...

लड़की पटाने के टिप्स इन हिंदी – Ladki Patane Ke Tips in Hindi

आज के वक्त में गर्लफ्रेंड और बॉयफ्रेंड होना बहुत जरुरी हैं पर कैसे पटाये लड़की? यह एक सोचने वाली बात है। हमारे इस लेख...

घरेलू नुस्खे इन हिंदी फॉर वेट लूस “Gherluu Nuskhe in Hindi for Wight Loss”

मोटापा न केवल आप की पर्सनालिटी (pesonaloty ) खराब करता है बल्कि कई बीमारियों का कारन भीबनता है . वजन कम करना कोई आसान...

होली खेलने से पहले रखे ये सावधानी

होली का त्यौहार मौज-मस्ती का त्यौहार माना जाता है| कोई होली के रंगों में रंगा नजर आता है, तो कोई भांग के नशे में...

सुबह के नाश्ते में भूलकर भी ना खाएं ये चीजें वर्ना हो सकता है आपकी सेहत को काफी नुकसान

सुबह का नाश्ता सेहत के लिहाज से बहुत महत्वपूर्ण होता है। इसीलिए दिन की शुरुआत हमेशा हेल्दी नाश्ते के साथ ही करनी चाहिए। लेकिन...

एड्स का इलाज़

एड्स के बारे में आप जानते ही होगे की ये एक बहुत गंभीर और जानलेवा बीमारी है . यह एक ऐसी बीमारी है जो...